Skip to main content

Posts

Showing posts from August, 2016

एक अद्भुत वाकिया - एलियन की रहस्यमय कहानी

एक अद्भुत वाकिया - एलियन की रहस्यमय कहानी : ऑस्ट्रेलियाई शहर बेन्डिगो के नजदीक एक लंबी एवं सीधी सड़क से होकर रॉनाल्ड सुल्लीवेन 4 अप्रैल, 1966 को अपनी कार से गुजर रहा था। घटना वाली रात कुछ भी असामान्य नहीं था। उसकी गाड़ी का हर पुर्जा सही और ठीक तरह से काम कर रहा था। फिर अचानक एक स्थान पर आकर सुल्लीवेन के साथ एक अजीब ही वाकिया पेश आया। उसकी गाड़ी की हेडलाइट्स की रोशनी अचानक ही मुड़ गयी। ऐसा नहीं था की हेडलाइट्स ढीली या उनमे लगे लट्टू ढीले हों।  सुल्लीवेन यह देखककर हैरत में पड़ गया की हेडलाइट्स के प्रकाश की किरणें, प्रकाश की किरण के सिद्धांत के एकदम विपरीत, आश्चर्यजनक रूप से मुड़ गई थीं। इस अद्भुत एवं रोमांचक किस्से ने सुल्लीवेन को सक्कते में डाल दिया। सुल्लीवेन ने घबरा कर अपनी गाड़ी वही रोक ली। गाड़ी रोकने के साथ ही सुल्लीवेन की नजर सड़क के किनारे एक खेत पर जा पडी।  उसने वहां एक अजीब चमकती हुई चीज को देखा। सुल्लीवेन अभी इस दृश्य को हैरत से देख ही रहा था की सहसा वह चीज धीरे-धीरे हवा में ऊपर की ओर उड़ती हुई उसकी नजरों से ओझल हो गयी। अगले ही पल एक आश्चर्य हुआ, उस रहस्यमय चीज के जाते ही सार

दो औरतो के साथ अज्ञात प्राणी का अजीब मुलाक़ात - alien story

दो औरतो के साथ अज्ञात प्राणी का अजीब मुलाक़ात - alien story in hindi : यह घटना नॉर्वेजिया स्थित मोस्जोएन की गर्मियों के सुहावने दिन की है ! स्थानीय इलाके की दो औरतें घटना वाले दिन अपने घर के पास एक स्थान पर बैरीज (एक प्रकार का जंगली फल) इकट्ठा करने के उद्देश्य से निकली थीं !  दोनों औरतें आपस में बात करती हुई अपने काम को अंजाम दे रही थी की तभी एक आदमी उन दोनों औरतों के पास आया और उसने उन्हें इशारे से अपने पीछे-पीछे आने को कहा ! दोनों औरतों को थोड़ी हैरानी तो अवश्य हुई, पर फिर कुछ सोचती हुई वे उस आदमी के पीछे-पीछे चल पड़ीं ! आदमी चलता हुआ एक स्थान पर जाकर रूक गया ! वहाँ दोनों औरतों ने एक अजीब-सी चीज देखी !  सामने ही एक अजीब डिस्कनुमा चीज जमीन पर पडी थी ! चीज के नीचे की जमीन कुछ धंसी हुई थी और वह व्यास में कोइ पांच मीटर के करीब थी !  अभी वे औरते उस अजीब-सी चीज को विस्मय से देख ही रहीं थी की सहसा उस आदमी ने उनसे बातें करनी शुरू कर दी, परन्तु  औरतों के पल्ले कुछ भी न पड़ा ! वे दोनो उसकी भाषा में प्रयुक्त किसी भी शब्द या ध्वनि को कोई भी हिस्सा समझ न पाई ! उन दोनों औरतों ने

किसी अज्ञात प्राणी का विशाल पद-चिह्न - Real Alien Story

किसी अज्ञात प्राणी का  विशाल पद-चिह्न - Real Alien Story : कभी-कभी कुछ ऐसा घाट जाता है, जिसके बारे में हम यह तो जानते हैं कि कुछ-न-कुछ तो घटा है, परंतु क्या घटा यह नहीं जानते ! इस तरह की घटनाएं दिलो-दिमाग को परत-दर- परत उलझा कर रख देती हैं ! ऐसी ही एक उलझन भरी घटना 1965 में अगस्त की रात श्रीमती हॉब्ज के साथ घटित हुई ! घटना वाली रात श्रीमती हॉब्ज घंटियों के टनटनाने जैसी आवाज सुनकर कुछ चकित हुई ! आवाज घर के बाहर से आ रही थी बाहर निकलकर उन्होंने देखा की उनके वाशिंगटन स्टेट (अमेरिका) स्थित घर  के पास ही आकाश में एक चमकीली रोशनी मंडरा रही थी ! ठीक उसी क्षण श्रीमती हॉब्ज ने देखा की उनके घोड़े और कुत्ते किसी चीज से भयभीत होकर मचलने लगे थे ! डर के मारे वे बेजुबान जानवर यहाँ-वहां भाग रहे थे ! अगली सुबह श्रीमती हॉब्ज के आश्चर्यचकित हो उठी ! वे रहस्यमय पद-चिह्न लंबाई में 55 सेंटीमीटर के थे और सबसे अधिक हैरानी व परेशान करने वाली बात वह यह थी की उन विशाल पद-चिह्नों में से प्रत्येक के बीच की दूरी, अर्थात एक डग की दूरी, आश्चर्यजनक रूप से 3 मीटर पर थी ! उक्त विशाल पद-चिह्न एक विशाल

किसी अज्ञात द्वारा पायलट गायब ! - Alien Ki Sachchhi Ghatnaa

किसी अज्ञात द्वारा पायलट गायब ! प्रस्तुत घटना हवाई उड़ानों के इतिहास में अपने आप में एक अजूबा और कभी न सुलझने वाले एक राज के रूप में दर्ज है। 21, अक्टूबर , 1978 को फ्रेडरिक वेलेन्टिच नामक एक व्यक्ति ने सेसना-182 विमान से उड़ान भरी।  फ्रेडरिक ने मेलबॉर्न से किंग आइलैंड (ऑस्ट्रलिया) के लिए उड़ान भरी थी, परंतु वह उड़ान हमेशा-हमेशा के लिए एक घटना बन कर रह गयी।  उस दिन उड़ान पर निकला फ्रेडरिक अपने गंतव्य स्थल पर कभी भी नहीं पहुँच सका। मेलबॉर्न से अपनी उड़ान पर निकले फ्रेडरिक ने एक घंटे बाद जमीनी अधिकारियों से अपने रेडियो द्वारा संपर्क साधा अधिकारियों ने बताया की उस समय उसके (फ्रेडरिक) आस-पास आधिकारिक रूप से कोई भी विमान उड़ान पर नहीं था। अधिकारियों ने फ्रेडरिक से उस यान के प्रकार के बारे में बताने को कहा। अधिकारियों के इस सवाल का फ्रेडरिक तत्काल कोई भी जवाब न दे सका, क्योंकि उसने उससे पहले वैसा कोई यान नहीं देखा था। फ्रेडरिक ने अधिकारियों को बताया की वह यान उसके द्वारा देखे गए किसी भी अन्य यान से मेल नहीं खाता था। इस पर अधिकारियों ने उसे इस यान का हुलिया बयान करने को कहा।

मिनिस्टर और वे - एलियन Alien ki sachchi kahani

मिनिस्टर और वे - एलियन Alien ki sachchi kahani : कभी-कभी जीवन में ऐसी घटनाएँ घाट जाती हैं, जब उन्हें सत्य न मानने वाले लोग भी सत्य मानने पर मजबूर हो जाते हैं ! वे लोग जो जिंदगी भर किसे चीज का मानने से इनकार करें, फिर अचानक उसे मानने लगें , तो इसे क्या कहा जाए ? यकीनन ऐसे लोगों की बात को हंसी में नहीं उड़ाया जा सकता, क्योंकि ऐसे लोग अपनी जिंदगी भर की विचार धारा को झूट बोलकर स्वयं हंसी का पात्र कभी न बनना चाहेंगे ! ऐसी ही एक घटना 11 अक्टूबर, 1973 को ऑस्ट्रेलिया में सड़क पर एक उड़न-तश्तरी के उतरने पर घटित हुई !  विवरणों के अनुसार उस रहस्यमय उड़न-तश्तरी के उतरने के साथ ही उसमे सवार कई प्राणी नीचे सड़क पर उतर आए, उड़न-तश्तरी से उतरे वे प्राणी दिखने में मनुष्य के समान ही थे, परंतु जो कपडे उन्होंने पहन रखे थे, वे आश्चर्यजनक रूप से टाइट फिटिंग लिए हुए थे और चांदी की मानिंद चमक रहे थे ! इस आश्चर्यजनक घटना का उल्लेख यदि कोई सामान्य व्यक्ति करता, तो शायद एकबारगी अविश्वास करने का कोई कारण ढूंढा भी जा सकता था, परंतु इस घटना को अपनी आँखों से देखने वाला कोई सामान्य व्यक्ति न होकर एक मेथोडिस्ट मि

एक अद्भुत हादसा - Radioactive Effect of Alien Spaceship

एक अद्भुत हादसा - Radioactive Effect of Alien Spaceship : यह जिक्र बरमूडेज परिवार और उनके कुछ मित्रों के साथ घटी एक अति दुर्भाग्यपूर्ण घटना के बारे में है, जो 1969 के जुलाई माह में घटित हुई थी ! घटना वाली शाम बरमूडेज परिवार के सदस्य अपने एनओलेमा (कोलंबिया) स्थित घर में अपने कुछ मित्रों के साथ आनंद पूर्वक बात कर रहे थे ! हँसते-बतियाते कब रात हो गयी , किसी को पता ही नहीं चला ! अचानक ही उन लोगों की नजर ऊपर आकाश में स्थित एक चीज पर जा पड़ी ! उस चीज को देखकर वे सभी चौंक पड़े , क्योंकि वैसी विचित्र चीज उनमे से किसी ने भी उससे पहले कभी न देखी थी ! उन लोगों ने आकाश में एक चमकती हुई गेंदनुमा आकृति को मंडराते हुए देखा ! इस अद्भुत नज़ारे को देख रहे घर के एक बच्चे ने उस विचित्र चीज की तरफ अपने हाथों में पकड़ी टॉर्च की रोशनी फेंकी !देखने वाले ये देखकर हैरान हो उठे की उस बच्चे के ऐसा करते ही वह चमकीला पिंड उस घर की तरफ बढ़ने लगा ! उस रहस्यमय पिंड के नजदीक आने पर सबने उसे स्पष्ट और साफ तौर पर देखा ! उस पिंड का रंग चमकीला नारंगी था और उसके नीचे आश्चर्यजनक रूप से नीली रंग की टाँगे लटक रही थी ! ना

किसने किसको चौंकाया - Alien Ki Duniya Real Stories

किसने किसको चौंकाया - Alien Ki Duniya Real Stories : मनुष्य का यह स्वभाव है कि अचानक कुछ घटित होने पर वह चौंक उठता है ! ठीक यही नियम जानवरों के साथ भी लागू होता है ! चौंकाने से संबंधित ये खेल हमेशा एकतरफा होता है ! मसलन अगर मैं अचानक आपको सामने टपक पंडू, तो आप यक़ीनन चौंक पड़ेंगे और मैं आनंदित होऊंगा, परंतु कभी-कभी इसका उलटा भी होता है ! कई बार चौंकने वाला खुद चमक जाता है और यह तय करना मुश्किल हो जाता है की किसने किसको चौंकाया ? ऐसी ही एक विचित्र घटना 23 अगस्त, 1967 को स्टेनली मोक्जोन के साथ घटित हुई ! घटना रात्रि के अंतिम प्रहर की है ! प्रभात होने में कुछ ही देर थी और ऐसे में स्टेनली ओंटारियो, कनाडा स्थित जॉयसविले के बाहरी इलाकों से होकर अपनी कार से गुजर रहा था ! घटना के समय स्टेनली हाईवे नंबर पंद्रह से गुजर रहा था की अचानक उसकी नजर पास के खेत से आती हुई चमकती गाड़ी हरी रौशनी पर जा पडी ! स्टेनली की समझ में कुछ भी न आया की रात्रि के उस अंतिम प्रहर में वहां क्या हो रहा था ! वह अपनी उत्सुकता को दबा न सका और छानबीन के उद्देश्य से उस तरफ निकल पड़ा ! उसने अपनी गाड़ी की सारी बत्ति

टूवूम्बा के किसान ने उड़न तश्तरी देखी : UFO Story

टूवूम्बा के किसान ने उड़न तश्तरी देखी : UFO Story - उत्तरी ऑस्ट्रेलिया स्थित टूवूम्बा के एक किसान के साथ जुलाई, 1957 को एक बड़ा ही रोचक हादसा पेश आया ! वह अपने खेत से गायों के एक झुण्ड को खदेड़ रहा था की सहसा आकाश में हुई एक हलचल ने उसका ध्यान अपनी तरफ आकृष्ट किया !  शायद कोई हवाई जहाज होगा, ऐसा सोचकर ग्राहम नामक उस किसान ने यों ही ऊपर की ओर नजर उठाई , पर आकाश में जो कुछ उसने देखा, वह उसके लिए आश्चर्यजनक मंजर बन कर रह गया। सपाट पेंदे वाली उस उड़न-तश्तरी को देखकर लगता था, मानो कोई उल्टी प्लेट उड़ती हुई चली आ रही हो। वह उड़न-तश्तरी उसके सर के ऊपर से होती हुई एक ओर निकल गयी। अभी ग्राहम उस विचित्र यान के बारे में सोच ही रहा था की वह यान एक बार पुनः प्रकट हुआ। इस बार भी वह उसके सर के ऊपर से उड़ता हुआ एक ऒर निकल गया। इस घटना के ठीक कुछ सप्ताह बाद ऐसी ही एक रोचक घटना टूवूम्बा के एक अन्य किसान के साथ घटित हुई। वह किसान एक खेत में काम कर रहा था की तभी उसने आकाश में मंडराती हुई एक विशाल चीज को देखा।  आकाश में मंडराती उस रहस्यमय चीज को देखकर वह किसान आश्चर्यचकित रह गया, क्योकि उसने उससे पहल

रहस्यमय एयरशिप्स - एलियन की कहानी - Mysterious Alien Spaceship

रहस्यमय एयरशिप्स - एलियन की कहानी - Mysterious Alien Spaceship अट्ठारहवीं सदी के अंत में यूनाइटेड स्टेटस (अमरिका) के आकाश में अनेक अज्ञात चीजों को उड़ते हुए देखा गया। उस समय तक किसी को भी यह गुमान न था की वे अज्ञात उड़ते चीजें अन्य ग्रहों से आए कोई वाहन या उड़न-तश्तरियाँ भी हो सकती थीं। लोगों में उस समय उन अज्ञात चीजों को लेकर एक आम अवधारणा थी की वे एयरशिप्स थीं। इन कथित एयरशिप्स के बारे में दर्ज विवरण के अनुसार वे बहुत विशाल एवं लंबी होती थीं और अकसर उनके नीचे यात्रियों के बैठने के लिए एक केबिन लटका रहता था। दर्ज कई घटनाओं में उन लटकते हुए केबिनों में यात्रियों को देखा जाना दर्ज है। वे यात्री कभी-कभी किसी अज्ञात भाषा में चिल्लाते और इशारे करते थे। परंतु कभी-कभार ही उनके द्वारा कहा गया कोई शब्द या वाक्य नीचे खड़े लोगो की समझ में आता। अक्सर देखा गया है की उन रहस्यमय यात्रियों की पानी में गहरी रूचि रही और वे अकसर लोगों से बाल्टियां भर-भर पानी देने को कहते। इन रहस्यमय 'एयरशिप्स' के देखे जाने से संबंधित दर्ज घटनाओं में सबसे रोचक घटना अप्रैल , 1897 में घटित हुई थी। प्राप

लड़ाकू बेड़ा और उड़न-तश्तरी - Flying UFO Real Story

लड़ाकू बेड़ा और उड़न-तश्तरी : Flying UFO Real Story - द्वितीय विश्वयुद्ध अपनी चरम सीमा पर था। ऐसे में उस लड़ाकू बेड़े को दुश्मनों पर कड़ी नजर रखने के सख्त निर्देश दिए गए थे। उस लड़ाकू बेड़े के कर्मचारी पूरी मुस्तैदी से अपने काम को अंजाम दे रहे थे।  वैसे भी उनका बेड़ा उस समय दुश्मन की जल सीमा में खड़ा था और ऐसे में किसी भी लापरवाही की जरा भी गुंजाइश न थी। घटना 26 फरवरी, 1942 की है। ट्रॉम्प नामक एक छोटा, मगर पूर्ण सुसज्जित डच लड़ाकू बेड़ा और उस पर सवार चालक दाल के सदस्य दुश्मन की टोह लेने का अपना काम बड़ी ही मुस्तैदी से कर रहे थे।  घटना वाले दिन वह लड़ाकू बेड़ा ऑस्ट्रेलिया और इंडोनेशिया के बीच स्थित तिमोर सागर से होकर गुजर रहा था कि सहसा पहरे पर लगे चालक दल के एक सदस्य ने किसी हवाई जहाज के बेड़े की तरफ आने से संबंधित निर्देश दिए। संभावित किसी हवाई खतरे को देखते हुए संबंधित अधिकारी तुरंत ही सतर्क हो गया, जब उसकी नजर आने वाले हवाई जहाज पर पडी, तो वह बुरी तरह से चौंक गया। उस अधिकारी के चौंकाने का कारण वह विमान ही था। उसने अपने जीवन में वैसा अजीब यान कभी नहीं देखा था। वह यान सामान्य यानों से ए

एलियन द्वारा प्रथम अपहरण : Kidnapping by Alien in hindi

एलियन द्वारा प्रथम अपहरण : Kidnapping by Alien - सं 1963 में उड़न-तश्तरियों से संबंधित एक अति सनसनीखेज और चौंका देने वाली खबर अखबारों की सुर्ख़ियों में उभर कर सामने आई। इस खबर ने एक तरह से इस बात को स्थापित कर दिया कि अंततः सुदूर अंतरिक्ष में बसने वाले प्राणी धरती पर पहुँच चुके हैं। प्रस्तुत रोचक घटना उस समय प्रकाश में आई, जब बार्नी और बेट्टी हिल नामक एक दंपती को 19 सितंबर, 1961 में उनके साथ पेश आए एक हादसे के बारे में सम्मोहित अवस्था में सवाल-जवाब किए गए। सम्मोहित अवस्था से पहले की गयी पूछताछ में वह जोड़ा अपने साथ पेश आए उस हादसे के बारे में सिर्फ इतना ही बता पाया की न्यू हेम्पशायर (अमरीका) स्थित पोर्ट्समाउथ में अपने घर की ओर कार द्वारा लौटते हुए उन्होंने एक उड़न तश्तरी देखी थी।  फिर जैसे ही वह यान नीचे उतरा, वे दोनों बेहोश हो गए। उन्हें कोई दो घंटे बाद होश आया। बेहोशी के आलम में बीते दो घंटों के दौरान क्या हुआ, उनको याद न था। परंतु जब इस जोड़े को सम्मोहित करके सवाल जबाब किए गए, इन्होंने अपने साथ बीती बातों को और विस्तार से बयान करना शुरू कर दिया।   अपनी सम्मोहित अवस्था के दौरा

चाँद के सामने क्या था वह ? - Chand ke samne UFO

चाँद के सामने क्या था वह ? - Chand ke samne UFO : मानव ने चाँद पर विजय प्राप्त कर ली है, यह बाद आज शायद ही किसी को बताने की जरुरत है। सारी दुनिया जानती है की चाँद को विजित किया जा चुका है। परंतु इसके पीछे वर्षों की अथक मेहनत और दृढ़ निश्चय की भावना ही थी, जिससे मानव ऐसा कर सका।  वर्षों के अध्ययन और यांत्रिक कुशलता के फलस्वरूप ही मानव चाँद पर पहुँचने में सक्षम हो पाया, परंतु चाँद पर बसने का उसका सपना अभी साकार नहीं हो पाया है, क्योंकि चाँद पर मानव के रहने योग्य वातावरण उपलब्ध नहीं है। चाँद पर पैर रखने से पहले जब मानव इतना सक्षम नहीं था, वह चाँद पर जीवन होने की कल्पना किया करता था। उसने अपनी सोच में चाँद पर बसने वाले प्राणियों की काल्पनिक तस्वीरें भी गढ़ रखी थीं, तब उसके पास अपनी इन जिज्ञासाओं को शांत करने का कोई साधन न था। वह रात्रि में शक्तिशाली दूरबीनों की सहायता से चाँद को घंटों निहारा करता था। इसी सन्दर्भ में 4 अप्रैल, 1982 की रात्रि में चाँद को निहारते हुए मुल्लर नामक एक डच खगोल शास्त्री को कुछ विचित्र दृश्य दिखाई दिया।   चाँद को निहारते हुए उस रात मुल्लर ने एक बड़ा ही अजी

ट्रक-ड्राइवर और उड़न-तश्तरी : Truck Driver & UFO Story

ट्रक-ड्राइवर और उड़न-तश्तरी : Truck Driver & UFO Story : सं 1978 के सितंबर माह की एक रात को मुर्रे बियर्डमोर और उसके कुछ दोस्त एक ट्रक में सवार होकर ऑस्ट्रेलिया के सेंत जॉर्ज नामक एक प्रांतीय शहर के नजदीक से गुजर रहे थे। अचानक नारंगी रंग की एक चमकीली चीज न जाने कहाँ से आकर उनके ट्रक के सामने से होते हुए गुजर गयी। उक्त रहस्यमय चीज को देखकर वे सभी हैरत में पड़ गए। वह चमकती हुई अज्ञात चीज उनके ट्रक के बहुत करीब से होकर गुज़री। बियर्डमोर ने बिना कुछ सोचे-समझे अपनी राइफल उठाई और उस अज्ञात चीज (उड़न-तश्तरी) पर फायर कर दिया। वह अज्ञात चीज अपने आप ही वहां से गुजर जाती, परंतु शायद बियर्डमोर की इस हरकत से वह भी कुछ उत्सुक हो उठी। जैसे ही बियर्डमोर ने उस अज्ञात उड़ती चीज पर फायर किया, त्यों ही वह घूम कर पुनः ट्रक की ओर बढ़ने लगी।  इस नज़ारे से भयभीत बियर्डमोर अपनी ट्रक लेकर सरपट घर की ओर भागा। एक स्थान पर आकर ट्रक एक झटका खाकर रूक गया, परंतु शीघ्र ही पुनः चालू हो गया। उस अज्ञात चीज ने बियर्डमोर का पीछा न छोड़ा। वह उसका पीछा करती हुई उसके फार्महाउस तक जा पहुँची, जहाँ मुर्रे के पिता

एलियन द्वारा हमले की कोशिश : Alien Attack Real Story in hindi

एलियन द्वारा हमले की कोशिश : Alien Attack Real Story in hindi -  28 नवम्बर, 1954 को गुस्तावो गोंजालेज और जोस पोन्स नामक दो व्यक्ति अपनी कार द्वारा वेनेजुएला स्थित कराकास इलाके के बाहरी क्षेत्र से होकर गुजर रहे थे। सड़क शांत थी और चारों ओर रात्रि का गहन अंधकार छाया हुआ था।  सुबह होने में अब थोड़ी ही देर बाकी थी। ऐसे में वे दोनों अपनी यात्रा का आनन्द्द लेते हुए आगे बढे जा रहे थे। अपनी इस यात्रा के दौरान सामने एक मोड़ पर गाड़ी घुमाने पर इन दोनों ने एक बड़ा ही अजीब नजारा देखा। उनके सामने सड़क के ठीक बीचोबीच, सड़क से मात्रा कुछ ही ऊपर एक चमकती हुए उड़न-तश्तरी मंडरा रही थी। उस यान के इस तरह सड़क के बीचोबीच स्थित होने पर उन्होंने अपनी गाड़ी वहीँ रोक दी। वे दोनों उत्सुकतावश अपनी गाड़ी से बाहर निकल कर उस उड़न-तश्तरी की तरफ बढे। अभी वे उस उड़न-तश्तरी के पास पहुंचे ही थे की एक छोटा-सा प्राणी, जो पूरी तरह से बालों से ढका हुआ था, दौड़ता हुआ उनकी तरफ लपका। गोंजालेज ने इस छोटे से प्राणी को लपक कर ऊपर उठा लिया। परंतु आश्चर्य, उस छोटे से प्राणी ने न सिर्फ अपने आपको गोंजालेज की पकड़ से छुड़वा लिया, वरन

क्या एलियन हमारे लिए खतरा साबित हो सकता है ?

क्या एलियन हमारे लिए खतरा साबित हो सकता है ? : Danger from Alien उड़न-तश्तरियों और उनमे सवार होकर धरती पर आने वाले प्राणियों से संबंधित दर्ज हजारों घटनाओं को देखने, सुनने और जानने के पश्चात कुछ ही ऐसी घटनाएं हैं, जो इन चीजों और प्राणियों के धरती पर आने के कारण का कुछ-कुछ खुलासा करती हैं। ज्यादातर ऐसे मामलों, जिनमे लोगों ने इन प्राणियों से बाते होना बताया है, के अनुसार  दोस्ताना व्यवहार लिए होते हैं। अकसर इन प्राणियों के बारे में कहा जाता है की ये सुदूर अंतरिक्ष में बसी किसी अति विकसित सभ्यता से संबंधित हैं, जो मनुष्य मात्र की मदद के उद्देश्य से धरती पर आते है। हालांकि जांचकर्ता ज्यादातर ऐसी घटनाओं को मानने से इंकार कर देते है।  उनके अनुसार इस तरह की घटना का उल्लेख करने वाले किसी भी व्यक्ति की एक या दो से ज्यादा प्राणियों से मुलाकात नहीं हुई।   साथ ही ऐसी किसी घटना का उल्लेख करने वाला व्यक्ति कभी भी किसी भी अज्ञात प्राणी के साथ पूर्ण रूप से खुलकर बात या संपर्क नहीं कर पाया है। हाँ, एक बात को जांचकर्ता निर्बाध मानते हैं की अक्सर ऐसी घटनाओं में एक समानता तो होती है। अक्स

यात्री जहाज बनाम उड़न-तश्तरी : Alien Ki Real Kahani

यात्री जहाज बनाम उड़न-तश्तरी : Alien Ki Real Kahani - यह  घटना 23 जुलाई, 1948 के दिन क्लेरेन्स चाइल्स नामक एक अमरीकी एयरलाइन के यात्री जहाज पायलट के साथ घटित हुई थी ! चाइल्स कोई नौसिखिया पायलट नहीं था, अपितु उसे द्वितीय विश्वयुद्ध में विमान संचालन का गहरा अनुभव था ! वह एक कुशल हवाबाज था और हवाई उड़ान संबंधी सभी तकनीकों में  पारंगत था ! घटना के समय चाइल्स अपने यात्री विमान को अलबामा के ऊपर उड़ा रहा था ! वातावरण में चारों तरफ अँधेरे की नीरवता के सिवा कुछ न था ! सुबह के लगभज 3 बज रहे थे ! चाइल्स अपने विमान पर पूर्ण नियंत्रण रखे हुए था ! अचानक उसकी नजर एक अजीब से दिखने वाले एक अन्य यान पर पर जा पड़ी ! वह अज्ञात यान उत्तर-पूर्व दिशा से होकर बड़े वेग से उस ओर आ रहा था ! पहले तो चाइल्स ने सोचा कि वह यान कोई जेट फाइटर था ! शीघ्र ही उसे यह मालूम पड़ गया कि उसकी सोच गलत थी और वह अज्ञात यान जेट फाइटर नहीं था ! वह यान चाइल्स के यात्री विमान के पास से होता हुआ गुजर गया ! चाइल्स ने उस यान को स्पष्ट तौर पर देखा ! उसके अनुसार उस यान की लंबाई 30 मीटर के लगभज थी ! पूरा यान चमकीली नीली रोशनी से

परियों के बाल - Alien Story Hindi Me

परियों के बाल अगर आप यह सोच रहे हैं कई कि इस शीर्षक के अन्तर्गत हम आपको किस्सों व कहानियों में वर्णित परियों से जुडी कोई घटना बताने जा रहे  हैं, तो आप गलत सोच रहे हैं ! वस्तुतः 'परियों के बाल' उड़न-तश्तरियों से संबंधित एक विचित्र घटनाक्रम है ! ' एंजल हेअर ' नाम से पुकारे जाने वाली यह रहस्यमय चीज पहली बार फ्रांस में सं 1952 में दिखाई दी ! इस घटना की शुरुआत आकाश में 30 रहस्यमय उड़न-तश्तरियों के देखे जाने के समय शुरू हुई थी !  लोग आकाश में मंडरा रही उन उड़न-तश्तरियों को देखकर हैरान हो उठे थे, परंतु उससे भी ज्यादा हैरानी उन्हें तब हुई , जब उन्होंने आकाश से नीचे जमीन की तरफ आते हुए और लंबे महीन रेशों को देखा ! देखने में वे महीन रेशे सूत के महीन धागों के समान लग रहे थे ! कई लोगों ने इन महीन रेशों को लपकने की कोशिश की ! परंतु आश्चर्य ! जैसे ही उस रेशे को छुआ जाता, वह आश्चर्यजनक रूप से हाथों में पिघल जाता !  जमीन पर गिरे रहस्यमय रेशे देखते-ही-देखते भाप बनकर उड़ जाते ! लोग इन रेशों की इस अद्भुत लीला को देखकर आश्चर्यचकित हो उठे ! इन्हीं अज्ञात एवं रहस्यमय रेशों को 

अभिशप्त जंगल - alien ke baare me sachchi kahani

अभिशप्त जंगल - alien ke baare me sachchi kahani : इस पृथ्वी पर ऐसे अनेक स्थान हैं, जो अपनी रहस्यमय गतिविधियों को लेकर लोगों में खासे चर्चित है ! ये स्थान अपनी किसी विशेषता को लेकर हमेशा से ही चर्चा का केंद्र रहे हैं ! उदाहरण के लिए बरमूडा का त्रिकोण !  हम सभी जानते हैं की इस त्रिकोण से होकर गुजरने वाले जल और वायुयान बड़े ही रहस्यमय तरीके से हमेशा-हमेशा के लिए गायब हो जाते हैं ! ऐसा सदियों से हो रहा है ! आज तक इस रहस्य को कोई भी नहीं जान पाया की आखिर ऐसा क्यों होता है ! ऐसी ही विशेषताओं को लेकर चर्चित हुआ एक छोटा-सा जंगल इंग्लैण्ड के दक्षिणी किनारे पर है ! यहां सदियों से लोगों द्वारा इस जंगल में अनेक विचित्र एवं रहस्यमय घटनाओं को होते हुए देखा गया है, मसलन उड़ते हुए रहस्यमय अग्नि-पिंड, पालतू जानवरों का जंगल में प्रवेश और उनका हमेशा-हमेशा के लिए खो जाना और अन्य अनेक विचित्र घटनाक्रम शामिल हैं ! हाल ही के कुछ वर्षों में यहां उड़न-तश्तरियों के देखे जाने संबंधी सैकड़ों घटनाएं दर्ज हुई हैं ! उन सारी घटनाओं एवं विचित्रताओं को लेकर यह एक आम धारणा है की क्लेपहम वुड अज्ञात लोकों से आए प्र

सबसे पहली उड़न-तश्तरी : Real Alien Story - First Flying UFO

सबसे पहली उड़न-तश्तरी : Real Alien Story - First Flying UFO क्या आप जानते है की हमारी इस पृथ्वी पर देखी जाने वाली पहली उड़न-तश्तरी कब और किसने देखी ? या फिर, क्या आप जानते हैं की उड़न-तश्तरी को उड़न-तश्तरी क्यों कहा जाता है ? हालांकि सदियों से लोगों द्वारा आकाश में विचित्र चीजों को उड़ते हुए देखे जाने संबंधी घटनाक्रम मौजूद हैं, परंतु 'फ्लाइंग सॉसर' या 'उड़न-तश्तरी' नामक ये विशेषण 24 जून, 1947 से पहले पढ़ा या सुना नहीं गया था !  उस दिन घटी एक विचित्र एवं रहस्यमय घटना की ही बदौलत 'फ्लाइंग सॉसर' या 'उड़न तश्तरी' नामक यह विशेषण प्रकाश में आया और तभी से लोगों ने इसमें रुचि दिखानी शुरू की है ! घटना वाले दिन कैनेथ आर्नोल्ड नामक एक व्यवसायी अपने निजी विमान द्वारा उत्तरी अमरीका स्थित कास्केड की पहाड़ियों के ऊपर उड़ान भर रहा था !  अपनी इस उड़ान के दौरान वह नौ चमकदार डिस्कनुमा आकृतियों को उड़ता हुआ देख कर हैरत में पड़ गया ! वे रहस्यमय उड़ती चीजे पहाड़ की चोटियों के पास उड़ान भर रही थीं ! आर्नोल्ड के देखते-ही-देखते वे रहस्यमय चीजें अविश्वसनीय ढंग से एवं तीव्र गति से उड़

भेड़ पालक और उड़न-तश्तरी - Shepherd & UFO Story

भेड़ पालक और उड़न-तश्तरी - Shepherd & UFO Story उड़न-तश्तरियों से संबंधित अनेक ऐसी घटनाएं दर्ज है की जब उनमे सवार प्राणियों ने पृथ्वी के मनुष्यों में रूचि दिखाई ! कई घटनाओं में इन अज्ञात प्राणियों ने मानव पर हमले भी किए हैं. इसके अलावा ऐसी भी घटनाएं हुईं, जब की इन रहस्यमय प्राणियों ने किसी मानव से संपर्क साधने की कोशिश की हो, परंतु ऐन वक्त पर वह व्यक्ति भाग खड़ा हुआ !  पर कभी-कभी इसका ठीक उलटा भी देखने में आया है कि जब किसी मानव ने किसी उड़न-तश्तरी में रुचि दर्शाई हो, किन्तु वह भाग खड़ी हुई हो ! ऐसी ही एक रोचक घटना सं 1964 की एक शाम को ऑस्ट्रेलिया के एक भेड़ पालक किसान के साथ घटित हुई ! घटना वाली शाम मिस्टर पूल नामक भेड पालक अपनी लैंडरोवर गाड़ी में पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया स्थित पर्थ के नजदीक अपने फार्म की ओर चल पड़ा !  वह अपने फार्म पहुंचा ही था की उसे एक तेज आवाज सुनाई दी ! उस आवाज का कारण जानने के लिए उस भेड़ पालक ने अपने आस-पास नजर दौड़ाई और फिर जो उसे नजर आया, वह उसकी जिंदगी का सबसे बड़ा आश्चर्य बन कर रह गया ! वह तेज आवाज आकाश से धरती की तरफ आती हुई एक विशाल उड़न-तश्तरी की थी ! उस उड़

आकाश से उतरा रहस्य - Alien की रहस्यमय कहानी

आकाश से उतरा रहस्य - Alien की रहस्यमय कहानी : आकाश से उतरा रहस्य  15 दिसम्बर, 1968 की दोपहर को हॉक इनलेट, (अलास्का) में खड़े 'तील' नामक जहाज के कर्मचारी दिन भर के काम के बाद शांति से आराम कर रहे थे की अचानक उन्होंने आकाश से नीचे की तरफ आते हुए एक चमकीले गोले को देखा !  वह गोल पूर्ण रूप से सफेद था और आकाश से नीचे होता हुआ पानी की सतह पर ठहर गया गया ! कुछ देर तक पानी की सतह पर रहने के बाद वह पुनः ऊपर उठता हुआ आकाश में एक और निकल गया ! अगले दिन आश्चर्यजनक रूप से वह रहस्यमय गोल पुनः दिखाई दिया ! इस बार वह पानी की सतह पर नहीं उतरा, बल्कि वह सीधा 'तील' नामक उस जहाज की और बढ़ने लगा ! धीरे-धीरे वह रहस्यमय गोल उड़ता हुआ एन उस जहाज के ऊपर आकर बीच हवा में ठहर गया ! उस रहस्यमय गोले के ऐसा करते ही अचानक उस जहाज के सारे इंजन बंद हो गए और रेडियो ने काम करना बंद कर दिया !  यह तय था की वह सब कुछ उस गोले की वजह से ही हुआ था, क्योकि जहाज में कोई यांत्रिक खराबी नहीं थी ! शीघ्र ही यह बात सच साबित भी हो गयी !  कुछ क्षणों के बाद ज्यों ही वह गोला वहां से हटा, जहाज के बंद इंजन और रेड

एलियन द्वारा लेजर पिस्तौल से टॉर्च पर हमला : Alien's Laser Pistol

एलियन द्वारा लेजर पिस्तौल से टॉर्च पर हमला : Alien's Laser Pistol -  प्रस्तुत घटना सं 1980 की है ! घटना वाली रात एक व्यक्ति इंग्लिश लेक डिस्ट्रिक्ट के एक खेत से होकर गुजर रहा था ! खेत से गुजरते हुए वह आदमी एक स्थान पर आकर एक अजीब-सी आवाज को सुनकर चोंक उठा ! उसकी नजरों के ठीक सामने उसे एक काली आकृति दिखाई दी ! आकृति जमीन से कुछ ही ऊपर हवा में मंडरा रही थी ! उस व्यक्ति ने उस अजीब चीज को अच्छी तरह देखने के उद्देश्य से अपनी टार्च को जलाकर उस ऒर रोशनी फेंकी ! टोर्च की रोशनी में उसने देखा की वह चीज आकार में किसी छोटे यान जितने थी और जमीन से मात्र कुछ ही ऊपर हवा में मंडरा रही थी ! अभी वह व्यक्ति उस रहस्यमय चीज को देख ही रहा था की सहसा उसे अपने पीछे पदचापों की ध्वनि सुनाई दी ! चौंकते हुए उसने पीछे मुड़कर टोर्च की रोशनी फेंकी ! उसकी टॉर्च से निकली रौशनी उसके ठीक पीछे आ रही दो आकृतियों से जा टकराई ! रोशनी पड़ने के अगले ही क्षण उन रहस्यमय आकृतियों में से एक ने पलटकर अपने हाथ में पकड़ी किसी अज्ञात चीज को उस व्यक्ति की तरफ तान दिया !  उस अज्ञात चीज से एक चमकदार किरण निकलकर उस व्यक

झील से निकला उड़न-तश्तरी - UFO Inside Lake Story in hindi

झील से निकला उड़न-तश्तरी - UFO Inside Lake Story in hindi : 22 मार्च, 1966 की उस शाम को काफी देर हो चुकी थी और वातावरण में चारों तरफ रात का अन्धेरा फैल चुका था. ऐसे में श्रीमती एवं श्री क्लेमेंट्स अपने नन्हे पोते के साथ विल्टशायर (इंग्लैंड) स्थित शीयरवाटर लेक के पास घूम रहे थे !  तीनो झील के किनारे किनारे की ठंडी हवा का आनंद लेते हुए चहलकदमी कर रहे थे की तभी अचानक उनकी नजर आकाश में स्थित एक चमकती हुई विशाल गेंदनुमा आकृति पर जा पडी ! उनके वर्णनानुसार वह खूनी लाल रंग की गेंद थी. वह अचानक ही एक गोता लगाकर नीचे की तरफ लपकने लगी ! देखते-ही-देखते वह एक झटके के साथ झील की सतह से टकराई और अगले ही क्षण झील की गहराई में समाकर उनकी नजरों से ओझल हो गयी ! इस अनदेखे अनोखे मंजर को देखकर वे तीनों भयभीत होकर शीघ्र ही अपने घर की ओर चले गए ! इसके ठीक एक घंटे बाद श्रीमती चैंपियन नामक एक महिला, जो उसी झील के किनारे टहल रही थी, उसने भी कुछ ऐसा ही देखा और उसके भी रोंगटे खड़े हो गए. उसने जो देखा, नज़ारे की अगली कड़ी था,जो क्लेमेंट्स परिवार ने देखा था !  उस महिला के अनुसार उसने झील के अंदर से एक विशाल ग

जब अंधेरे ने पायलट को उड़न तश्तरी से बचाया - Real Story of Alien

जब अंधेरे ने पायलट को उड़न तश्तरी से बचाया - Real Story of Alien : 4 दिसम्बर, 1952 की रात जब सारा टैक्सास शहर या तो सो रहा था, या फिर लोग-बाग अपने-अपने कामों में मशगूल थे ! उस रात अपनी नियमित उड़ान पर निकले यूनाइटेड स्टेट्स एयर फ़ोर्स के एफ-51 यान के चालाक के साथ कभी न भूलने वाला एक हैरत अंगेज हादसा पेश आया !  रात की नीरवता भरी शांति में अपने जहाज को उड़ाते हुए एक पायलट को जरा भी गुमान न था की अगले कुछ ही क्षणों में वह शांत उड़ान उसकी बाकी जिंदगी में एक कभी न भूलने वाली हलचल बन कर रह जाएगी ! एफ-51 का वह पायलट अपनी नेवीगेशन लाइट्स को जलाए हुए आराम से अपनी उड़ान भर रहा था, तभी सामने कुछ दूरी पर स्थित एक चमकदार नीली आभा लिए किसी वस्तु ने उसके आराम में खलल डाला !  पायलट कुछ सोचता या संभालता, इससे पहले ही वह रहस्यमय नीली आभायुक्त वस्तु अपनी पूर्ण गति से एफ-51 से सीधी भिड़ंत की राह पर थी ! आख़िरी लम्हों में उस रहस्यमय नीली वस्तु ने अचानक एक मोड़ काट कर संभावित टक्कर टाल ली ! अचानक हुई उस भिड़ंत ने उस पायलट को बुरी तरह से हिलाकर रख दिया !  उस पायलट ने देखा की वह नीली आभायुक्त वास्तु अब उसके

रहस्यमय तरीके से पुरे खेत के आलू गायब : Story of Alien

रहस्यमय तरीके से पुरे खेत के आलू गायब : Story of Alien - रहस्यमय तरीके से पुरे खेत के आलू गायब ! जुलाई, 1963 की सुबह में रॉय ब्लैंकार्ड नामक एक किसान अपने विल्टशायर (इंग्लैंड) स्थित खेतों की तरफ उस दिन का काम करने के लिए अपने घर से रवाना हुआ ! अपने खेत पर पहुचते ही इस किसान की नजर एक अजीब ही नज़ारे पडी ! उसके खेत में ढाई मीटर चौड़ा एक गड्ढा खुदा हुआ था ! उस गड्ढे को देखकर ऐसा लगता था, मानो किसी विशाल चम्मच की मदद से किसी ने उस जगह की मिट्टी उठा ली हो, परंतु इस गड्ढे को देखकर हुई हैरानी से भी ज्यादा आश्चर्य उसे यह देखकर हुआ की उसके खेत में मौजूद आलू के सारे पौधे गायब हो चुके थे ! पौधों के नष्ट जलाए जाने जैसी कोई बात नहीं थी, वे तो सीधे-सीधे गायब हो चुके थे ! आर्मी बॉम्ब स्क्वॉड को घटना स्थल पर मौका मुआयना करने हेतु बुलवाया गया ! वे भी उस विचित्र गड्ढे के बारे में स्पष्ट तौर पर कुछ भी नहीं बता सके ! एक बात तय थी कि वह गड्ढा किसी बॉम्ब या किसी उल्का की वजह से नहीं था !  फिर वह गड्ढा वहां क्यों था ? अगर उसे खोद कर बनाया गया था, तो आस-पास कोई निशान या मिट्टी क्यों नहीं थी ?

कब्रिस्तान : रोमांचकारी अनुभव - Real Story of Alien

कब्रिस्तान : रोमांचकारी अनुभव Real Story of Alien - कब्रिस्तान : रोमांचकारी अनुभव 8 मार्च, 1967 की रात को लियोमिनस्टर (मसाशुसेटस, अमेरिका) के नजदीक अच्छी खासी-बर्फ पडी थी ! रात को गिरी इस बर्फ ने सारे इलाके को मानो एक सफेद चादर से ढक दिया हो ! हर चीज बस सफेद ही सफेद नजर आ रही थी ! ऐसा लगता था कि मानो सारा कुछ चांदी के एक आवरण से ढका हो ! बर्फ की इसी ख़ूबसूरती को निहारने के लिए उस रात एक दंपती अपनी गाडी लेकर निकल पड़े ! दुर्भाग्यवश शीघ्र ही उन्हें अपने इस फैसले पर पछताना पड़ गया ! यह जोड़ा घूमते हुए जैसे ही एक कब्रिस्तान के पास से होकर गुजरा, उनकी नजर वहां स्थित कब्र स्तंभों के बीच उड़ते धुंए और चमकती रोशनी पर जा पडी ! शायद वहां आग लगी हो, ऐसा सोचते हुए उन्होंने अपने कार रोक दी !  सही स्थिति जानने के उद्देश्य से वे दरवाजा खोलकर पानी गाड़ी से बाहर निकल आए ! जिसे वे आग समझ रहे थे, वह रोशनी सुनसान कब्रिस्तान पर मंडराती हुई एक रहस्यमय चीज से निकल रही थी ! अचानक न जाने क्या हुआ की कार का इंजन अपने आप बंद हो  गया और गाड़ी की तमाम लाइटें बुझ गयी ! ठीक उसी क्षण पति महोदय को बिजली का एक

सवाल जिंदगी का - रहस्यमय प्राणी के साथ लड़ाई : Alien Story

सवाल जिंदगी का - रहस्यमय प्राणी के साथ लड़ाई : Alien Story सवाल जिंदगी का - रहस्यमय प्राणी के साथ लड़ाई 10 दिसम्बर, 1954 को लोरेंजो फ्लोर्स एवं जीसस गोमेज नामक दो लड़के खरगोशों के शिकार के उद्देश्य से पशिचमी वेनेजुएला स्थित चीको गांव अपने साजो-सामान सहित जा पहुंचे !  आस-पास की झाड़ियों में खरगोशों को ढूंढते इन लड़कों को सड़क के पास एक घनी झाड़ी में कुछ हलचल होती दिखाई दी ! उन्हें लगा की शायद उस झाडी में कोइ दुर्घटनाग्रस्त वाहन था और वे सहायता के उद्देश्य से उस झाड़ी की तरफ चल पड़े ! उस घनी झाडी में प्रवेश करना एक कठिन काम अवश्य था, पर अंततः वे दोनों उस झाडी के मध्य पहुँच ही गए ! अंदर का दृश्य देखकर वे दोनों हैरान रह गए ! उन दोनों के अनुमान के विपरीत उस झाडी में कोई दुर्घटनाग्रस्त वाहन या ट्रक न होकर कुछ और ही चीज थी ! उनकी नजरों के सामने चमचमाती हुई एक तश्तरीनुमा चीज थी ! वह चमकती हुई उड़न-तश्तरी अपने एक सिरे से दूसरे सिरे तक कोई 3 मीटर के लगभग थी और बड़े ही रहस्यमय तरीके से जमीन से मात्र थोड़ी ही ऊपर हवा में मंडरा रही थी ! उनकी समझ में ही नहीं आया कि जो कुछ वे देख रहे थे, वह वास्तव